motiyabind-in-hindi

मोतियाबिंद आपके जीवन को कैसे प्रभावित कर सकता है?

By: | Tags: | Comments: 0 | August 5th, 2018

मोतियाबिंद वाले लोगों के लिए अक्सर दुनिया एक धुंधली खिड़की को देखने की तरह है, जहाँ पढ़ने, गाड़ी चलाने और सामान्य दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। लेकिन मोतियाबिंद वास्तव में क्या है? यदि सरल शब्दों में मोतियाबिंद को समझाया जाए तो इसका का अर्थ है, आंखों के लेंस पर एक बादलीन पैच (बादल के सामान एक परत होना) बना होता है जो आपकी दृष्टि में हस्तक्षेप करता है।

यह समय के साथ होता है और क्लस्टर बनाता है, जो लेंस द्वारा छवि को रेटिना में भेजने से रोकता है। मोतियाबिंद सबसे आम दृष्टि की समस्या है जो अक्सर 50 वर्ष से ऊपर की उम्र के लोगों के बीच देखा जाता है।

मोतियाबिंद धीरे-धीरे विकसित होता है, यही कारण है कि अधिकांश लोग इसे अनदेखा करते हैं, क्योंकि यह प्रारंभिक चरण में आपकी देखने की योगिता को परेशान नहीं करता है, लेकिन समय के साथ, यह समस्या गंभीर हो जाती है।

क्या आप मोतियाबिंद के लक्षणों को जानते है?

  • धुंधला, या मंद दृष्टि का होना
  • रात या अंधेरे वाली जगह में कम या देखने में परेशानी
  • प्रकाश और चमक के प्रति संवेदनशील होना
  • डबल यानि दो-दो दिखाई देना
  • चश्मा या लेंस के नंबर में अक्सर परिवर्तन होना
डॉक्टर को कब दिखाए?

यदि आप अपनी दृष्टि में परिवर्तन का अनुभव करते हैं, जैसे प्रकाश, डबल दिखना, अचानक सिरदर्द, आंखों में दर्द या निर्धारित चश्में के नंबर  में निरंतर परिवर्तन होना आदि तो अपने डॉक्टर से मुलाकात अवश्य करें। किसी भी तरह की दिक्कत से बचने के लिए तुरंत अपनी आंखों की जांच करना महत्वपूर्ण है।

क्या होता है जब मोतियाबिंद का इलाज नहीं किया जाता है?

मोतियाबिंद दृष्टि हानि के सबसे आम कारणों में से एक है, ख़ासकर 50 वर्ष से अधिक लोगों के लिए यह बहुत बड़ी समस्या है। वास्तव में, ग्लूकोमा की तुलना में मोतियाबिंद के कारण दृष्टि हानि के अधिक मामले हैं। लोग आंशिक रूप से अंधे हो जाते हैं या लंबी अवधि के लिए इलाज न किए जाने पर यह पूर्ण अंधापन का कारण बन सकता है। यदि आप मोतियाबिंद का इलाज नहीं करते हैं, तो यह अति-परिपक्व हो सकता है, एक ऐसी स्थिति जिसमें इसके इलाज में बहुत मुश्किल हो सकती है या सरल सर्जरी के दौरान मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

क्या इसका इलाज किया जा सकता है?

मोतियाबिंद का इलाज एक साधारण सर्जरी से किया जा सकता है। यह एक बाह्य रोगी सर्जरी है, जिसका अर्थ है कि रोगी उसी दिन घर वापस जा सकता है।

मोतियाबिंद सर्जरी आम और दर्द रहित है?

जब लोग ‘सर्जरी’ शब्द सुनते हैं, तो डर एक आम बात है, लेकिन मोतियाबिंद सर्जरी दुनिया की सबसे आम सर्जरी में से एक है। सर्जन, मूल रूप से, आपके लेंस को हटा देगा और इसे एक नए मानव निर्मित लेंस के साथ बदल देगा। मोतियाबिंद सर्जरी की सफलता दर बहुत अधिक है क्योंकि 95 प्रतिशत लोगों ने सर्जरी की है, उनका कहना है कि वह सर्जरी के बाद बेहतर देख सकते हैं।

सर्जरी के बाद

मोतियाबिंद सर्जरी के बाद, रोगियों को खुजली और हल्की बेचैनी महसूस हो सकती है,। जबकि द्रव निर्वहन (Fluid discharge) भी आम है। एक या दो दिन बाद, यह असुविधा ठीक हो जाती है। सर्जरी के बाद समस्या बहुत दुर्लभ है, इसलिए आपका पुनर्प्राप्ति का समय छोटा होता है, बशर्ते आपकी सर्जरी समय की जाए।

आँख के धुंधलेपन को हटाने के बाद यदि आपकी दृष्टि धुंधली हो तो घबराना नहीं चाहिए। मोतियाबिंद को हटाने और नए को समायोजित करने के लिए आपकी आँखों को समायोजित करने में कुछ घंटे लग सकते हैं।

आम तौर पर, अगले दिन आपके सर्जन के साथ अनुवर्ती होती है जिसमें सुनिश्चित किया जाता है कि कोई समस्या तो नहीं हो रही।

यदि आपके डॉक्टर ने पहले से ही मोतियाबिंद का निदान किया है, तो प्रतीक्षा न करें! नि: शुल्क हमारे अत्याधुनिक आईक्यू विज़न अस्पताल में 15 तरह की आँखों की जांच करवाएं, जिसमें आँखों की देखभाल के उच्चतम स्तर की गुणवत्ता और तकनीक शामिल है। आईक्यू विज़न के 38 सुपर स्पेशियलिटी आँख के अस्पताल उत्तर प्रदेश, दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, उत्तराखंड, गुजरात और महाराष्ट्र में मौजूद हैं।

अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए- 1800-102-2016 पर संपर्क करें।

Leave a Reply