burning-eye

Know about Eye burning!

Eye burning when accompanied by itching and discharge is usually a sign of an eye infection. It can occur to people of all age groups.

Symptoms

To determine the common symptoms of eye burning, notice if your eye appears red or pink, if eyelids are swollen, there is deposit of crusts around the corner of the eye upon waking up and difficulty in opening the eye in morning due to the discharge.

One might also have watery eyes, sensitivity to light, a green or yellow coloured discharge leaking from the eye. In rare cases, patients have also complaint of an ulcer, scratch or cut on the surface of the eyes. These symptoms might occur because of an eye infection, injury or an invasion by a foreign element in the eyes.

Causes

An eye infection is the most common cause of eye burning that is accompanied by itching and discharge. Some people contract allergies, which can also cause a burning sensation in the eye. An attack by a virus, such as herpes simplex virus or by any bacteria, can trigger it as well. Wearing unclean contact lenses, wearing it for a longer period of time or sharing contact lenses with another person can trigger the condition. Sometimes, using expired eye drops and sharing make-up are also known to cause burning eye, accompanied by itching and discharge.

Treatment   

Most commonly, eye burning when accompanied by itching and discharge, is because of bacterial and fungal infections. The eye doctor might advise you antibiotics in the form of eye drops. Eye Doctor may prescribe steroid eye drops to relieve pain, itching and inflammation. Eye ulcers can possibly damage your eyesight, which is why it is important to get them treated properly.

We, at Eye-Q Vision Super Specialty Hospitals, understand the importance of clearing your doubts and anxieties that arise with these small issues such as eye burning and fungal infections.

conjunctivitis-red-eyes

Red eyes and itchy too, it may be Conjunctivitis!

Pink eye, commonly known as conjunctivitis, is the swelling or redness of conjunctiva. It is a clear membrane that turns red and itchy during any viral or bacterial infection. The prevalence rate is about 7.50%. It mostly affects young adults of age group 20 and above. Pink eye conjunctivitis causes pain, watering, irritation and can rarely also affect your vision.

Symptoms

Symptoms of  pink eye conjunctivitis are redness in white part of the eye or the inner eyelid, increased amount of tears, itchy eyes and burning in the eyes. Other symptoms might include thick yellow discharge that gets deposited over the eyelashes, especially after sleep. Sometimes a green or white discharge might also be observed. Irritation by invasion of a foreign object such as dust particles or small insects might also cause pink eye conjunctivitis. A sore throat, respiratory infection or cold might trigger the onset of the disease.

Treatment

One should immediately consult an eye doctor if any of the signs are found in the patient and the condition does not improve within 24 to 48 hours. It is a contagious disease and, hence, can affect the ones living in the same surrounding. Early diagnosis can restrict the disease from spreading. If you wear lenses, and have any symptoms of pink eye conjunctivitis, stop the use immediately.

The eye doctor may advise you a number of tests in case of a severe conjunctivitis and he may take samples of your eye secretions for proper study, analysis and treatment. If it is an allergic conjunctivitis, he may advise the patient to take allergy testing. Mostly these infections are self-limiting ,but for speedy recovery and to prevent further sequelae  eye doctors prescribe antibiotics , lubricants and at times mild anti allergic also. He can also prescribe you eye ointments for night application. Ointment can blur your vision for around 20 minutes after application. It is important to note that one should not wear contact lenses during the infection and keep their surroundings clean.

We, at Eye-Q Vision, take extra care during examination and treatment of your eyes because we understand that your eyesight is precious. Consult our expert team of eye doctors for all your eye related problems.

lasik-surgery-in-hindi

जानिए आँखों की लेज़र सर्जरी के बारे में!

आज के बदलते लाइफस्टाइल के साथ हर किसी की आँखों की रोशनी पर गहरा असर पड़ता दिखाई दे रहा है। एक समय था, जब चश्मा बढ़ती उम्र के लोगों को लगता था लेकिन अब 5 साल के बच्चों को भी चश्मा लग जाता है। लेकिन घबराने की कोई बात नहीं हैं क्योंकि साइंस ने इसका भी इलाज निकाल लिया है। 18 साल की उम्र के बाद आँखों का ऑपरेशन या सर्जरी करावा सकते हैं, जिसके बाद बिना चश्मे के देख पाना संभव होगा। इस सर्जरी का नाम है लेसिक।

लेसिक सर्जरी क्या है?
(What is 
laser Surgery in hindi)

किसी भी व्यक्ति को आँखों की रोशनी से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या हो जैसे कि दूर या पास का दिखाई न देने पर चश्मे का प्रयोग करना या लेंस लगाना आदि। उन व्यक्तियों के लिए लेसिक सर्जरी की जाती है, जिससे उनकी आँखों पर लगा चश्मा या लेंस हमेशा के लिए उतर जाएँ। लेकिन जिन लोगों की नज़र अधिक कमज़ोर होती है उनके लिए यह सर्जरी उपयोगी नहीं है।

लेसिक सर्जरी की प्रकिया क्या है? (Procedure of laser surgery in hindi)

लेज़र सर्जरी की प्रक्रिया में कुल 15 मिनट लगते हैं और व्यक्ति को 1 से 2 घंटे तक ही अस्तपताल में रहना होता है। इस प्रक्रिया को करने का तरीका कुछ इस प्रकार है-

  • सबसे पहले व्यक्ति की आँखों में आई-ड्राप डालकर सुन्न किया जाता है और एक दवाई खाने को दी जाती है।
  • डॉक्टर व्यक्ति की पलकों की झपकने की प्रक्रिया को रोकने के लिए लिड स्पेकुलम (उपकरण का नाम) का इस्तेमाल करते हैं।
  • फिर आँखों को स्थिर रखने के लिए एक डिवाइस का इस्तेमाल करते हैं जिससे व्यक्ति को आँखों पर हल्का दबाव महसूस हो सकता है।
  • आँखों के कॉर्निया में एक फ्लैप बनाकर, उसमें कंप्यूटर नियंत्रित एक्सीमर लेज़र को सीधा आँखों पर प्रकाश स्पंदित किया जाता है।
  • फिर कॉर्निया को दोबारा से आकृति में लाया जाता है।
  • आखिर में सर्जन कॉर्निया फ्लैप को फिर से स्थापित करते हैं और यह कुछ ही घंटों में ठीक होना शुरू हो जाता है।

लेज़र सर्जरी के फायदें-

  • आँखों की रोशनी बेहतर रूप से काम करती है।
  • इस सर्जरी के समय व्यक्ति को दर्द बेहद कम होता है।
  • सर्जरी के बाद व्यक्ति की आँखों की रोशनी तुरंत या एक दिन बाद ही पहले से बेहतर हो जाती है।
  • लेज़र सर्जरी के बाद बढ़ती उम्र में जल्दी आँखों की रोशनी पर प्रभाव नहीं पड़ता।
  • यह सर्जरी पूरी तरह से सुरक्षित है।

लेज़र सर्जरी के पहले और बाद में रखें सावधानियां-

  • सर्जरी के 1 हफ्ते पहले से न पहने लेंस।
  • सर्जरी के दो हफ्तों तक स्विमिंग, स्कूबा ड्राइविंग आदि न करें।
  • कोशिश करें कि 2 हफ्तों तक धूल आदि आँखों में न जाए।

लेज़र सर्जरी की लागत (Cost of Laser Surgery)

सभी देशों में लेज़र सर्जरी की लागत भिन्न है। भारत के भिन्न शहरों में लेज़र सर्जरी की कीमत भी भिन्न है। भारत में इस सर्जरी की लागत लगभग 25 हज़ार से 45 हज़ार तक है। लेकिन जितना बड़ा अस्पताल या जितना ज्यादा अनुभवी सर्जन होगा, उतनी इस सर्जरी की लागत में अंतर आ सकता है जो लाखों में भी इसकी कीमत जा सकती है।

आई-क्यू लेज़र सर्जरी करने में सक्षम है-

भारत भर में सस्ती कीमत पर सर्वोत्तम गुणवत्ता वाली आंखों की देखभाल प्रदान करने के लिए आई-क्यू अस्पताल प्रतिबद्ध है। आई-क्यू अस्पताल में आँखों से संबंधित 15 जाँच केवल 50 रुपया में की जाती है। यह 37 शहरों में स्थित है। यह आईएसओ पंजीकृत संगठन हैं, जो भारत में सबसे प्रसिद्ध आंखों के अस्पतालों में से एक है। आई-क्यू में आँखों से संबंधित विशेषताओं में समृद्ध अनुभव वाले विशेषज्ञों की एक टीम इलाज करती हैं।

watery-eyes

Watery Eyes

A watery eye is a condition where too many tears are produced or when the tears cannot drain away properly. The prevalence rate of the disease is 8.60%. Any person can have watery eyes; it is not an age specific condition built mostly occurs in babies and people of the age group 60 and above.

Causes

There can be numerous causes of watery eyes, including problems in the eye glands that secrete an oily substance,which keeps the eyes lubricated. Sometimes the glands do not function properly, resulting in dry patches in the eye. These dry patches might produce extra tears as a reflex action.
Other commonly known causes of watery eyes are: lower eyelid dropping inward or outward, making it difficult for the tears to reach tear ducts, an eye irritation or an eye infection such as conjunctivitis. Inflammation in the eyelids, also known as blepharitis, can cause watery eyes.

Treatment

The treatment will depend on the symptoms and causes of the watery eyes. The eye doctor will check for any blockage in tear ducts and will prescribe eye drops to control inflammation, irritation and pain in the eyes. A doctor may also carry out scans and X-rays of your tear ducts to have deeper and clearer picture of the situation. It is also advisable to not wear contact lenses when having watery eyes.
The eye doctor may also advise you not to use any make-up on the sensitive skin, as it can further deteriorate the condition. If watery eyes are because of dry eye syndrome, the eye doctor will advise you take eye drops to lubricate your eyes. If it is caused due to a bacterial or fungal infection, the doctor might give you ointment and eye drops to help in the quick recovery of the eye.

We, at EyeQ Vision, understand that the smallest of problems like watery eyes can bring along anxiety and concern.

cataract-treatment-in-hindi

मोतियाबिंद की जानकारी

मानव के शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग आँख होती है जिससे वह संसार की सभी तरह की गतिविधियों के साथ सुन्दरता का आनंद ले पाता है। लेकिन यदि आँख में ज़रा-सा भी कुछ हो जाए तो मानो जान निकल जाती है। आँखों की देखभाल बेहद आवश्यक है और बढ़ती उम्र के साथ तो ख़ासकर ध्यान रखना ज़रूरी हो जाता है। बढ़ती उम्र के साथ अक्सर देखा गया है कि 50 से अधिक उम्र के लोगों को मोतियाबिंद की समस्या हो जाती है। लेकिन, आखिर मोतियाबिंद क्या है?

मोतियाबिंद क्या है ? (What is cataract in hindi)

मोतियाबिंद को अंग्रेजी में कैटरेक्ट (cataract) कहा जाता है। मोतियाबिंद आँखों की वह समस्या जिसमें धीरे-धीरे आँखों की रोशनी में धुंधलापन आने लगता है जिससे दिखाई देना कम हो जाता है। मोतियाबिंद की बीमारी जन्मजात भी हो सकती है। मोतियाबिंद एक आँख में भी हो सकता है या फिर दोनों आँखों में भी हो सकता है। आम भाषा में कहा जाए तो आँखों के लेंस के ऊपर एक तरह की परत का जम जाना, इसके कारण आँखों की रोशनी धीरे-धीरे कम हो जाती है।

मोतियाबिंद का कारण क्या है? (What is the cause of cataract in hindi)

  • बढ़ती उम्र
  • डायबिटीज की समस्या
  • आंखों पर देर तक सूरज की रोशनी पड़ना
  • आंख में किसी तरह की चोट या सूजन होना
  • धूम्रपान का सेवन
  • अल्ट्रावायलेट रेडिएशन के संपर्क में आना
  • रेडिएशन थेरेपी
  • अनुवांशिक

मोतियाबिंद के क्या लक्षण होते हैं? (Symptoms of cataract in hindi)

  1. आँखों से धुंधला या स्पष्ट न दिखाई देना- यदि किसी को मोतियाबिंद की शिकायत हो, तो उसे आँखों से साफ़ नही दिखाई देगा या ज्यादा नंबर का चश्मा लगाने के बाद भी धुंधला दिखाई देगा।
  2. शाम होने के बाद देखाई देने में मुश्किल होना- मोतियाबिंद की बीमारी में धुंधला दिखाई देता है, साथ ही कई तरह के अध्ययनों के बाद यह पता चला है कि रात के समय में 13% कार दुर्घटनाएं मोतियाबिंद के मरीजों की वजह से होती है।
  3. दो दिखाई देना- मोतियाबिंद के रोग में धुंधला दिखाई देने के सिवा एक अन्य लक्षण यह है कि कोई भी वस्तु, रोगी को दो दिखाई देती है। इस रोग का तब तक पता नहीं लग पाता, जब तक डॉक्टर पूर्ण रूप से जाँच कर पुष्टि न कर दें।
  4. रोशनी के प्रति संवेदनशीलता- यदि किस भी प्रकार की रोशनी, लाइट, चमक आंखों पर पड़ने के कारण आँखों में पीड़ा महसूस हो, तो समझा जा सकता है कि वह मनुष्य मोतियाबिंद का शिकार हो चूका है।
  5. रंगों को पहचाने में उलझन- मोतियाबिंद के रोग का एक अन्य लक्षण है भी कि रंगों को पहचाने में दिक्कत का सामना करना। उदाहरण के रूप में देखा जाए तो मोतियाबिंद के मरीज़ को ब्लैक, ब्लू और पर्पल यह तीनों ही रंग एक सामान लगते हैं।

मोतियाबिंद कितने प्रकार के होते हैं? (Types of cataract in hindi)

  1. सेकेंडरी मोतियाबिंद (Secondary cataract) इस मोतियाबिंद में ग्लूकोमा (glaucoma) के लिए हुई सर्जरी के बाद होने की संभावना होती है।
  2. ट्रॉमेटिक मोतियाबिंद (Traumatic cataract)- आँख में लगी किसी चोट के कारण होने वाले मोतियाबिंद को ट्रॉमेटिक मोतियाबिंद कहा जाता है। चोट के कई साल गुजरने के बाद भी मोतियाबिंद हो सकता है।
  3. कन्जेनिटल मोतियाबिंद (Congenital cataract)- यह जन्मजात या बचपन से होने वाला मोतियाबिंद होता है। यह मोतियाबिंद काफी अधिक छोटा होने के कारण आंख की दृष्टि को प्रभावित नहीं करता।  लेकिन बढ़ती उम्र के साथ आंख के लेंस बदलने पड़ सकते हैं।
  4. रेडिएशन मोतियाबिंद (Radiation cataract) कुछ मोतियाबिंद का कारण रेडिएशन के संपर्क में आने से होता है।

मोतियाबिंद से किस तरह बचाव किया जाए? (Prevention of cataract in hindi)

  1. समय पर आँखों की जाँच- प्रति वर्ष आँखों के डॉक्टर से जाँच करवाएं, जिससे आप अपनी आँखों के प्रति सावधानी बर्त सकेंगे।
  2. खान-पान का ध्यान- अपने आहार का पूर्ण ध्यान रखें, इसलिए अपने भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन अधिक करें। साथ ही विटामिन ए और विटामिन सी युक्त फलों का भी सेवन शुरू कर दें।
  3. चश्मा- यदि आपको नंबर का चश्मा लगा हुआ तो डॉक्टर की सलाह अनुसार उसे पहने और प्रति वर्ष आँखों की जाँच करवाएं। अगर आप धुप के संपर्क में अधिक रहते हैं तो धुप वाले चश्मे का इस्तेमाल ज़रूर करें, जिससे आपकी आँखों का बचाव हो सकें।
  4. रोग- अगर आपको मधुमेह,रक्तचाप आदि जैसी समस्या है तो नियमित रूप से डॉक्टर से जाँच करवाते रहें।
  5. नशे- किसी भी तरह का नशा शरीर को नुक्सान पहुंचाता है इसलिए जल्द से जल्द नशे का सेवन बंद कर दें।

मोतियाबिंद का इलाज ( Treatment of motiyabind in hindi)

मोतियाबिंद का इलाज मरीज की दृष्टि पर निर्भर करता है क्योंकि किसी-किसी केस में चश्मे के नंबर लेंस को बदल कर भी इलाज संभव है। यदि मोतियाबिंद का स्तर बढ़ जाए तो सर्जरी की जाती है।

मोतियाबिंद सर्जरी में क्या किया जाता है? (Cataract surgery procedure in hindi )

डॉक्टर सबसे पहले आपकी आँखों में दवाई डालकर आँखों की पुतली की प्रतिक्रिया को देखने के बाद ही  मोतियाबिंद ऑपरेशन (motiyabind operation) की सलाह देता है। मोतियाबिंद सर्जरी में आँखों के लेंस को हटाकर एक आर्टिफिशियल लेंस लगया जाता है। सर्जरी के बाद कुछ दिनों तक आँखों से पानी आना, कम दिखना आम बात होती है, लेकिन यदि दर्द या रोशनी कम रहती है तो डॉक्टर से मिलें। साथ ही ध्यान रखें कि सर्जरी के बाद कुछ हफ्तों तक आँखों में धूल व पानी न जाए। डॉक्टर द्वारा बताई गयी, आई ड्राप समय पर डालें।

आई क्यू विज़न अस्पताल

आई क्यू विज़न अस्पताल में 15 तरह की आँखों की जांच की जाती है, जिसमें आँखों की देखभाल के उच्चतम स्तर की गुणवत्ता और तकनीक शामिल है। आई क्यू विज़न के 37 सुपर स्पेशियलिटी आँख के अस्पताल 28 शहरों में मौजूद है जिनमें उत्तर प्रदेश, दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, उत्तराखंड, गुजरात और महाराष्ट्र आदि शामिल हैं। अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए- 1800-102-2016 पर संपर्क करें।